आधी उम्र के देवर के प्यार में भाभी दीवानी,प्यार को ऐसे पहुंचाया अंजाम

google image




अक्सर लोग प्यार करते वक़्त ना जात देखते है ना उम्र .प्यार की कोई सीमा नहीं होती इसलिए कहते है की प्यार अँधा होता है क्यूंकि इसे देखने के लिए आँखों की नहीं बल्कि दिल की जरुरत होती है.ऐसा ही एक मामला up के गोरखपुर से निकलकर आ रहा है जहा दो बच्चों की विधवा मां को अपने से आधी उम्र के देवर से प्यार हो गया.इकतरफा प्यार में महिला ने देवर से शादी करने की ठान ली. जब देवर ने शादी करने से मना कर दिया तो मामला गांव-समाज तक पहुंचा.



 गांव की पंचायत जब निर्णय महिला के पक्ष में न दे सकी तो थाने में महिला ने पहुंच कर हंगामा शुरू कर दिया. महिला तब तक ठाणे से नहीं हटी जब तक देवर ने उससे साडी करने के लिए राजी नहीं हो गया.महिला के पति की मौत 6 साल पहले हो गया था उसके बाद ये महिला गोरखपुर के एक गांव में अपने दो बेटे और अपने से आधे उम्र के देवर के साथ रहती थी.महिला की बड़े बेटे की उम्र 14 साल और छोटे बेटे की उम्र 6 साल है.रहते - रहते महिला को अपने देवर पे दिल आ गया .





महिला के अनुसार दोनों के बीच धीरे-धीरे नजदीकियां भी बढ़ने लगी. देवर से उसके संबंध भी बन गए. महिला ने देवर से शादी का दबाव बनाया. लेकिन देवर ने ऐसा करने से इनकार कर दिया. दोनों में कहासुनी हुई और बातचीत भी बंद हो गई. लेकिन महिला शादी पर अड़ी रही.महिला अपने देवर के प्यार में इतनी पागल हो चुकी थी की उसे हर हाल में पाना चाहती थी.मामला पंचायत तक पहुंचा.







 लोगों ने देवर की बेहद कम उम्र को देखते हुए महिला को समझाया. लेकिन वह नहीं मानी. कोई निर्णय नहीं होने पर महिला ने पुलिस थाने में एप्लीकेशन दे दिया. पुलिस ने दोनों पक्षों को बुलाया. महिला शादी की बात पर अड़ी रही और थाने में ही हंगामा शुरू कर दिया. फिर दोनों को बैठाकर समझौता कराया गया. महिला की जिद के आगे देवर को झुकना पड़ा. उसने शादी के लिए हामी भर दी. फिर तय हुआ कि अगले लगन में दोनों की शादी होगी.









हमारे देश में भाभी को माँ का दर्जा दिया जाता है लेकिन फिर भी आये दिन हमें ऐसे खबर पढ़ने को मिलते है जिसमे भाभी - देवर की नाजायज सम्बन्ध के बारे में रहता है ऐसी खबर पढ़कर हमें तो ऐसा ही लगता है की गलती देवर की होगी पर क्या ये जरूरी है की हर जगह गलती देवर की होआप खुद इस खबर में पढ़े होंगे क्या कोई भाभी सच में ऐसा कर सकती है तो जवाब है ॥हा 






।क्यूंकि ये खबर बिलकुल सच्ची है है एक भाभी सच में अपने देवर के प्यार में इतनी पागल हो गयी थी किउसने ऐसा कदम उठा लिया , उस औरत को अपने देवर के प्यार में कुछ नहीं सूझ रहा था हजारो लोग इस पर हजारो तरह की बाते करेंगे कोई इसे सही कहेगा तो कोई गलत कहेगा लेकिन एक नजर से देखा जाए तो औरत ने अपने लिए सही किया , दोस्तों अगर इस दुनिया में कोई सबसे बड़ी सजा है तो वो है अकेलापन क्यूंकि चाहे हम हो आप हो सबको एक lifepartner की जरुरत परती है जीनवे के लिए सबको प्यार चाहिए , 



उस औरत के पति के गुजर जाने के बाद उसे अपना अकेलापन bardaas नहीं हो रहा होगा तो उसने जीने के लिए अपने देवर का सहारा लिया और शादी करना चाहती थी तो गया गलत किया उसकी भी एक अपनी ज़िन्दगी है पता नहीं पर क्यों कुछ लोग विधवा महिलाओ को एक अलग ही नजर से देखते है क्या जरूरी है की किसी के पति के गुजर जाने के बाद महिलाये अपनी साड़ी जिंदगी विधवा रह के गुजारे ये फैसला न आप और ना हम कर सकते है




 जब ज़िन्दगी उसकी है तो फैसले भी तो उसी के होने चाहिए तो अगर इस नजर से देखे तो उस औरत ने बिलकुल सही किया पर उसने गलती ये किया की अपने कुंवारे देवर से शादी करने से पहले उसे उसकी मर्जी जान लेना चाहिए क्यूंकि बेचारा देवर ने दबाव में आकर कही हा तो नहीं किया क्यूंकि उसकी भी एक अपनी ज़िन्दगी है ।...












Post a Comment

0 Comments