चमकी बुखार होने के लक्छण और उससे बचने के उपाय ।

लीची से होने वाली चमकी बुखार से कैसे बचे और दुसरो को भी बचाय।



अब तक बिहार में कुल मिलाकर 126 बचो की मौत हो चुकी है और 72 अभी भी बीमार है यिन सब का कारण और कुछ नहीं चमकी बुखार है , लोगो का सोचना है की ये बुखार लीची खाने से हो रहा है कई लोगो का तो ये भी केहमा है की लीची ने ही ली है बचो की जान , यिन की ये बात कुछ हद तक सही भी है क्यूंकि लीची खाने से कही न कही आपको भी चमकी बुखार हो सकता है लेकिन स्विर्फ़ लीची खाने से ही नहीं बल्कि गर्मी लगने या शारीर ठंडा पर जाने से भी आपको चमकी बुखार हो सकता है आज हम आपको चमकी बुखार के लक्छण और उसके उप्पय भी बताएँगे जिनका प्रयोग करके आप खुद को अपने परिवार को और दुसरो को भी इस चमकी बुखार से बचा सकते है ।


चमकी बुखार होने के लक्छण ।

चमकी बुखार 1 साल से लेकर 12 साल तक के बच्चो को अपना शिकार बना सकता है इसके होने के कुछ ख़ास लक्छण ये है ।

बच्चो को ,

1. अचानक तेज बुखार आना 

2. हाथ - पैर में अकड़ आना / टाइट हो जाना ।

3. बेहोश हो जाना ।

4. बच्चो के शरीर का चमकना ।

5. शरीर का कापना ।

6. शरीर पे चकता निकलना ।

7. ग्लूकोस का शरीर में कम होना ।

8. शुगर कम होना ।

9. भूख नहीं लगना।

10. चेहरे का रंग सावला पड़ जाना ।


चमकी बुखार से अपने बच्चो को बचने के लिए आप ये उपाय जरूर इस्तमाल करे ।


बच्चो को धुप से दूर रखे ।

अधिक से अधिक पानी बच्चो को पिलाय ।

हल्का साधारण खाना खिलाय ।

बच्चो को जंक फ़ूड से दूर रखे ।

रात को खाने के बाद मीठा जरूर खिलाय ।

खली पेट लीची न खिलाय 

सड़ा गला लीची न खाने दे ।

पुरे बदन का कपड़ा पहनाय ।

घर के आस पास पानी जमा न होने दे ।

बच्चो को धुप में न निलकने दे ।

मीठा रोज खिलाय ।

नमक चीनी का घोल पिलाय अपने बच्चो को ।

अपने बच्चो को गर्मी से दूर रखे ।

Post a Comment

0 Comments