इन मूर्तियों को देखकर आपकी आंखें खुली की खुली रह जाएंगी


इन मूर्तियों को देखकर आपकी आंखें खुली की खुली रह जाएंगी 


आए दिन हमलोग कही न कही घूमने जाते रहते है जहा हमलोग कुछ ऐसा देखते है जो हमे काफी हैरान कर देता है और सोचने पर मजबूर कर देता है की आखिर ये किसने और कैसे बनाया होगा । दुनिया में ऐसी बहुत सी चीजे है जो आपने नहीं देखि होगी और अगर देखि होगी तो सायद आपको भी अपने आँखों पर यकीन नहीं होता होगा, वैसे ही आज हम भी आपको बेहतरीन कलाकारी का कुछ ऐसी आकर्तियाँ दिखाएंगे जो आपको काफी हैरान कर देगी ।




Google image.

इस तस्वीर में आप देख रहे होंगे की एक बुजुर्ग इन्सान है जिसके सिर्फ दो हाथ और सिर दीख रहा है इसके आगे का कोई भी बदन नहीं है , फिर भी ये मूर्ति काफी बेहद सुन्दर लग रही है। देखने से तो ऐसा लग रहा है की ये इन्सान किसी गहरी सोच में डूबा है और बहुत परेशान है ।


Google image

दुरी तस्वीर में आप देख रहे होंगे की एक हाथी है जो की लोगो से बचता हुआ एक दीवार का सहारा लेकर खड़ा है देखने में तो ये हाथी काफी सुन्दर और मासूम सा दिखाई दे रहा है और ऐसा लग रहा है की ये बहुत डरा हुआ है और किसी से छुप रहा है ।



तीसरी तस्वीर में आप एक बड़े से या यूँ कहे की एक विशाल सी व्हले मछली को देख रहे है जिसकी अकीर्ति एक सुनसान सी जंगल में बनायीं गयी है। यह मछली देखने में काफी सुन्दर तो लग रही है लेकिन ये समझना काफी मुश्किल है की इसे किस मकसद से बनाया गया है , आखिर एक व्हले मछली जंगल में क्या करेगी ।




चौथी तस्वीर में आप एक महिला की मूर्ति को देख रहे जो की देखने म,इ तो काफी अच्छी प्रतीत होती है लेकिन ये पता नहीं चल पा रहा है की ये अपना चेहरा क्यों छुपा रही है हो सकता है ये किसी बात से परेशान है या ये योगा कर रही है , आपको क्या लगता है।



पांचवी तस्वीर में जो मूर्ति आप देख रहे है ये आपको जरूर पसंद आया होगा , इस अकीर्ति से ये समझ आ रहा है की एक लड़की चलते हुई किताब पढ़ रही है और उसमे एक लड़का झांक रहा है, हो सकता है ये दोनों प्रेमी हो या दोस्त हो या भाई - बहन भी हो सकते है। ये मूर्ति आज - कल के लोगो को काफी पसंद आएगी 



आखरी तस्वीर आपको बहुत ही प्यारी लगेगी क्यूंकि इसमें जो बचो की मुर्तिया बनाई गयी है वो काफी प्यारे लग रहे है और शरारत कर रहे है देखने में तो ऐसा लग रहा है की एक बड़े से जुटे को पहनकर ये बचे मस्ती कर रहे हैं ।

Post a Comment

0 Comments